• hopegrowindia@gmail.com
  • +91 7485815106





Showing Results

Black Bangal
Black Bangal

4000 INR
Black Bangal
Black Bangal

4000

अगर आप बकरी पालन करके अच्छे पैसे कमाना चाहते हैं तो ब्लैक बंगाल नस्ल आपके लिए बेहतर नस्ल है।

ब्लैक बंगाल बकरी की नस्ल देश के पूर्वी क्षेत्र में पाई जाती है। आमतौर पर यह पश्चिम बंगाल झारखंड, असम उत्तरी उड़ीसा में पाली जाती है।

  • ब्लैक बंगाल बकरी की नस्ल काले रंग की होती है। 
  • कुछ बकरियों का रंग मिश्रित होता है। 
  • इस नस्ल की बकरी छोटे कद की होती है।
  • इसका शरीर गठीला और आगे से पीछे की ओर ज्यादा चौड़ा होता है।
  • ब्लैक बंगाल की बकरियों के कान छोटे, खड़े और सींग भी छोटी होती है।
  • इस नस्ल की बकरियां अन्य नस्लों की तुलना में कम बीमार होती हैं।
  • वयस्क नर का वजन 20-30 किलोग्राम जबकि मादा का वजन 15-20 किलोग्राम तक होता है।
  • स नस्ल की प्रजनन क्षमता काफी अच्छी होती है।
  • इस नस्ल की बकरियों का मांस स्वादिष्ट और खाल भी अच्छे होते है।
  • औसतन यह नस्ल 2 वर्ष में 3 से 4 बार बच्चा देती है।
  • ब्लैक बंगाल बकरी का दूध टीवी, अस्थमा के मरीजों के लिए काफी फायदेमंद होता है
  • ब्लैक बंगाल नस्ल के मेमने 8 से 10 माह की उम्र तैयार हो जाते हैं।
  •  20 किलोग्राम ब्लैक बंगाल बकरे की कीमत 12 से 15 हजार रुपए तक होती है। 

Pre-starter Feed
Pre-starter Feed

3800 INR
Pre-starter Feed
Pre-starter Feed

3800

यह दाना पहले दिन से 10 दिन तक ब्रायलर चूजों को दिया जाता है। यह दाना चूजों को देने जरूरी होता है क्योंकि इसमें उनके शरीर के लिए आवश्यक विटामिन्स होते हैं। दूसरी बात यह छोटे दानों में ग्राइंड किया हुआ होता है ताकि चूजे अच्छे से दाना खा सकें। यह स्टार्टर और फिनिशर दाना से महंगा मिलता है। अगर आप प्री-स्टार्टर की जगह स्टार्टर का उपयोग करेंगे तो छोटे चूजे अच्छे से नहीं खा पाएंगे जिसके कारण उनका विकास सही तरीके से नहीं हो पायेगा। इसके कारण ब्रायलर मुर्गियों को कई प्रकार की बीमारियाँ होने का भी खतरा है।

COBB 430Y
COBB 430Y

000 INR
COBB 430Y
COBB 430Y

000

Sirohi Goat
Sirohi Goat

65000 INR
Sirohi Goat
Sirohi Goat

65000

इस नस्ल के छोटे आकार के सींग और नुकीले ऊपर और पीछे की ओर मुड़े होते हैं। एक बकरी का सामान्य शरीर का वजन लगभग 50-60 किलोग्राम होता है, जबकि एक बकरी का लगभग 25 से 40 किलोग्राम होता है। सिरोही बकरी प्रतिदिन 0.5 से 1.5 लीटर दूध दे सकती है। सिरोही के बच्चे का शुरुआती वजन करीब 2 से 2.5 किलो होता है।

वैसे तो सिरोही को मीट के कारोबार के लिए विशेष रूप से पाला जाता है. दरअसल, यह नस्ल तेजी से बढ़ती है इसलिए इसे जल्द से बेचा जा सकता है. वहीं यह दूध भी अच्छी मात्रा में देती है. गांव, कस्बों के अलावा इसका पालन शहर में भी आसानी से किया जा सकता है. 

GOAT MEET
GOAT MEET

700 INR
GOAT MEET
GOAT MEET

700